Gharelu Upaye






धातु क्षीणता में





Bhot se purusho
ko dhatu shrindata ki pareshani hoti hai jo ki har kisi ko btai nahi jati. Agar
ap bhi is pareshani se jhunj rahe hai tho apko iska upaye btaya jayega jo ki
bhot asardaar hai aur apko turant hi laabh dega.





Is upaye ko sahi
samey par kare aur iska jyada sevan aek bari main a kare.





Upaye:





“एक पाव शहद में आधा पाव प्याज का रस डालकर शीशी को धूप में रख दें। तीन दिन बाद सुबह शाम एक चम्मच पीने से पुरुषों की धातु निश्चय ठीक हो जाती है और बल कीर्य की वृद्धि होती है।“












कमर दर्द या धातु की कमी





Kamardard aek
aesi pareshani hai jo jyadatar buzurg logo ko hoti hai aur dhatu ki kami hona
bhi aam baat hai lekin isme pareshani bhot hoti hai. Agar ap is bimari se jhunj
rahe hai toh apko is ijak ko turant karna chahye jisse apko isse jald aram
mile.





Upaye:





“नागौरी असगन्ध व सोंठ बराबर मात्रा में कूटकर कपड़े में छानकर में दोनों के बराबर घी कड़ाही में डालकर चूर्ण को भूनें फिर चीनी डाल थोड़ा पानी डाल दें और उसे पकायें। पानी जल जाने पर जब घी ऊपर आ जाये तो इसे उर लें ठण्डा होने पर एक-एक तोला वजन के लड्डू गाय के गरम दूध के साथ खायें। कमर दर्द धातू की कमी व स्त्रियों का प्रदर रोग ठीक हो जाता है। इसके सेवन से स्वास्थ्य सुंदर होता है।“





उपदंश या गर्मी





Hazaro upaye apnane ke baad bhi agar apko updansh ki bimari
se aram na mila ho toh ye raam band ilaj jarur apnaye. Ye ilaj 100% kaam karta
hai aur apko is bimari se turant ilaj milega bina kisi side effect ke. Is ilaj
ke liye apko kuch saman bhar se kharidna padega jo apko kam rupaye mai mil
jaega.





Upaye:





“बाणी बूटी उपदंश कुष्ट और रक्त विकार के लिए बहुत ही लाभप्रद है। एक दो रत्ती चूर्ण दिन में दो बारे खिलायें अथवा रस कपूर काली मिर्च सम भाग पीसकर बारीक कर लें। चौथाई से आधी रत्ती मक्खन या मलाई में लपेट कर निगल लें। उपदंश रोग ठीक हो जायेगा। साथ ही त्रिफला को कड़ाही में जलाकर सम भब्य को मधु (शहद) के साथ पीसकर इन्द्री पर लेप करने से उपदेश दूर हो जाता है या सुपारी घिसकर उपदंश वाला स्थान पर लगाने से परेश ठीक हो जाता है।“





सुजाक गोरिया





Sujak goriya ka
ilaj kayi saalo se ho raha hai. Lekin jo ilaj doctors karte hai use sirf unhe
rahat milti hai, is bimari se mukti nahi. Agar ap bhi soch rahe hai ya dhund
rahe hai ki is bimari ka sahi ilaj kha se prapt kare to ap niche diye gaye upaye
ko jarur azmaye, hum dawa karte hai ki ye ilaj apko 100% bimari se rahat dega.





Upaye:





“ताल मखाना एक पाव, गेंहू आधा सेर, चीनी आधा सेर पानी पंद्रह सेर एक मजबूत घड़े में सबको रख पानी डाल मुँह पर कपड़े से ढंक रोज सुबह घड़े से आधा पाव पानी निकाल छानकर पीना चाहिए। सूजाक अच्छा हो जायेगा अथवा भुनी फिटकिरी एक माशा, मिश्री एक माशा पानी आधा पाव में घोलकर पच दिन पीने से सुजाक ठीक हो जाता है।“





 पेशाव रुकने (जलन

गर्मी
)
में





Agar apko bhi
paishab rukne ki dikaat hoti hai aur apko iska sahi ilaj nahi mil pa raha hai
to hap ghabraye nahi hum apko aaj iska sahi ilaj btaenge. Ye ilaj bhot purane
samey se apnaya jar aha hai, shayad ap tab paida bhi nahi hue the. Agar apko
iska turant upaye karna hai toh is ilaj ko jarur try kare.





Upaye:





“1 नींबू के रस में गाय का दूध व पानी को मिलाकर भर पेट पीने से पेशाब की जलन, गर्मी व पेशाब के रुकने पर अच्छा लाभ होता है।“





(मधुमेह)
पेशाब
में
चीनी
होने
पर।





Bhadti umar ke sath sath insane ko pta nahi chalta ki wo kis
bimari se jhunj raha hai. Agar apko bhi madhumeh ya sugar jyesi gambhi bimari
hai to hap iska ilaj asani se kar sakte hai. Is upaye mai apko bhot jyada faeda
hoga aur sabhi saman apko asani se uplabhd hojaega.





Upaye:





“आँवले का रस, जामून की पत्ती का रस, बैल की पत्ती का रस तीनों बराबर मात्रा में मिलाकर एक-एक चम्मच रोज सुबह-शाम पीने से मधुमेह जैसी भंयकर बीमारी निश्चय ही ठीक हो जाती है।“












मूत्र पथरी
या
गुर्दे
का
रोग





Agar apko toilet
karte samay chote chote pathar nikal rahe hai toh ap aek gambhir bimari se
jhunj rahe hai. Is bimari mai insane ko toilet karte waqt pathar nikata hai aur
bhot hi peeda hoti hai. Is bimari ka ilaj karna bhi sambhav hai, agar ap iska
gharelu ilaj karna chahte hai to hap niche diye upaye ko jarur azmaye.





Upaye:





“पपीते की जड़ ढाई तोला जल में पीसकर सुबह-शाम पीने से पेट की पथरी एक हफ्ते में ठीक हो जाती है तथा धीरे-धीरे गलकर पेशाब। के रास्ते से निकल जाती है अथवा सेव का रस पीते रहने से पथरी बनना बंद हो जाता है। बनी हुई पथरी घिस-चिस कर मूत्र द्वारा बाहर निकल जाती है इससे रात भर बार-बार पेशाब आना बंद हो जाता है वृक्कों को शुद्ध करता है।“





पेशाब के रूक-जाने
पर
|





Logo ka aksar
paishab tuk jata hai aur wo ise nazarandaz karke iske upaye ke bare mai sochte
nahi. Aagar sahi samey mai iska ilaj na kara jaye toh yeh bhot gambhir roop
leleta hai.





Agar apko bhi
kabhi zindagi mai paishab rukne jyesi samasya se guzarna padta hai to hap iska
ilaj turant hi kar sakte hai..





Upaye:





“मक्के के भुट्टे के जाल दो तोला, एक पाव पानी में उबालिए पानी एक छटाँक रहने पर छानकर ठंडा होने पर पीयें, बंद पेशाब खुलकर आयेगा अथ आँवले का रस या चूर्ण को मिश्री के साथ दिन में दो बार पिलायें से पेशाब खुलकर आने लगता है।“





पेशाब का बार-बार
आन्।





Adhik paishab
aana bhi aek bimari hai, aur yeh insane ko kafi takleef deti hai. Aksar hum
aesi jagh hote hai jaha bar bar paishab jana uchit nahi rehta. Agar ap is
bimari se bhugat rahe hai to hap iska ilaj asani se kar sate hai.





Upaye:





“एक केला लाकर आँवले के रस में शक्कर मिलाकर पीयें, बार-बार पेशाब आना बंद हो जायेगा।“





 बिस्तर पर पेशाव





Bistar par
paishab karna bachpan tak toh theek hai magar agar apki umar bhad rahi hai aur
ap abhi bhi bistar par paishab karte hai toh yeh aek badi bimari hai. In bimari
ke ilaj mai doctor apko aesi dawa dete hai jo kafi nuksan pohocha sakti hai..





Agar ap iska
upaye ghar baithe karna chahte hai toh apko sirf diya hua upaye karna hoge aur
apko is bimari se turant rahat milegi.





Upaye:





“अगर बच्चे बिस्तर पर पेशाब करते हों तो कुछ दिन तक उन्हें छुआरे खिलायें बिस्तर पर पेशाब करना बंद कर देंगे।“





Agar Aap hindi shayari padhna chahte hai yaha click kare: Hindi Shayari



edit

No comments:

Post a Comment